The Fasting Rules of Mahashivaratri | Rituals

Rochak Rajasthan
Views 16
Read Time7 Minute, 15 Second

कहते है भगवान शिव भोले-भंडारी है, उनसे सच्चे मन से जो मांगो वो जरूर देते है। महादेव की भक्ति और भी खास हो जाती है, जब महाशिवरात्रि को उनके भक्त उनकी उपासना करते है और व्रत रखते है। माना जाता है कि, इस दिन उपवास करने से व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्त होती है। व्रतों में सबसे बड़ा व्रत महाशिवरात्रि का होता है। यह व्रत चतुर्दशी तिथि को सुबह से लेकर रात्रि काल तक करना चाहिए। वही रात्रि के चारों प्रहर में प्रभु महादेव की आराधना करनी चाहिए। इस व्रत का पालन करने से प्रभु अपने भक्तों पर विशेष कृपा बरसाते है। कहते है यह व्रत व्यक्ति को उसके जन्म-जन्मांतर के पापों से मुक्ति दिलाता है। उपर्युक्त विधि से व्रत पूर्ण करने में असक्षम व्यक्ति चाहे तो रात्रि के आरंभ में तथा अर्द्धरात्रि में प्रभु महादेव की आराधना कर व्रत पूरा कर सकता है।

पूजन विधि:

महाशिवरात्रि के दिन प्रभु शिव की पूजा को विधि-विधान से करना चाहिए। इसके लिए सबसे पहले आपको पूजा के लिए एक स्वच्छ आसन पर बैठकर आचमन करना चाहिए। इसके बाद पूजन सामग्री को सामने रखे और दीपक प्रज्ज्वलित करें। तत्पश्चात स्वस्ति-पाठ करना चाहिए।

स्वस्ति-पाठ: स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवा:, स्वस्ति ना पूषा विश्ववेदा:, स्वस्ति न स्तारक्ष्यो अरिष्टनेमि स्वस्ति नो बृहस्पति र्दधातु।

स्वस्ति-पाठ करने के बाद पूजन का संकल्प लेना चाहिए और शिव पुत्र गणेश और माता पार्वती का ध्यान करना चाहिए। इसके बाद नन्दीश्वर, वीरभद्र, कार्तिकेय एवं सर्प का भी छोटा पूजन करना चाहिए। ध्यान रखे यदि आप रूद्राभिषेक, लघुरूद्र, महारूद्र जैसे विशेष अनुष्ठान कर रहे है तो साथ में नवग्रह, कलश, षोडश-मात्रका का पूजन करना नहीं भूले। साथ ही इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए महिलाओं के लिए शिवपुत्र कार्तिकेय का पूजन निषेध माना गया है।

संकल्प पूजन के बाद हाथों में बिल्वपत्र और चावल लेकर प्रभु महादेव का ध्यान करना चाहिए। इसके बाद प्रभु को आसन पर बिठाकर आचमन करे और स्नान कराये। इसके बाद दही-स्नान, घी-स्नान, शहद-स्नान व शक्कर-स्नान भी कराये। इन सब के पश्चात प्रभु महादेव को पंचामृत स्नान एक साथ कराये। अंत में सुगंध-स्नान कराकर शुद्ध जल से स्नान कराये। स्नान प्रक्रिया के बाद महादेव को वस्त्र रुपी जनेऊ चढ़ाये और फिर इत्र, फूलमाला, बिल्वपत्र और फल चढ़ाएं। इसके बाद धूप-बत्ती करें और फिर हाथ धोकर प्रभु को खाद पदार्थों का भोग लगाए। भोग के बाद पान-नारियल और दक्षिणा चढ़ाकर शिव-आरती करें।

अंत में भूल-चूक के लिए क्षमा याचना मंत्र “आह्वानं ना जानामि, ना जानामि तवार्चनम, पूजाश्चैव न जानामि क्षम्यतां परमेश्वर:” का जाप करें। इस मन्त्र उच्चारण के साथ ही आपकी पूजा संपन्न होगी और भोले-भंडारी आपकी मनोकामना पूर्ण करेंगे। मन में आस्था हो और आप चाहे तो साधारण पूजा भी कर सकते है।

शास्त्रों में महाशिवरात्रि का व्रत काफी महत्वपूर्ण माना गया है। इस दिन शिव भक्त बाबा भोले भंडारी को खुश करने के लिए कई तरह के जतन करते है। पूजा के दौरान कई ऐसी बातें है जिन्हें हर शिवभक्त को ध्यान में रखना चाहिए। चलिए जानते है शिवरात्रि पर कभी ना करने योग्य कामों के बारे में…

शिवरात्रि पर नहीं करें ये सभी काम

  • महाशिवरात्रि के दिन हर व्यक्ति को सुबह जल्दी उठना चाहिए। माना जाता है कि लेट तक निद्रा लेने वाले भक्तों से भगवान भोले-भंडारी रुष्ट हो जाते है। इस दिन आपको स्नान करे बिना कुछ भी खाना नहीं चाहिए। वही काले कपड़ों को पहनना इस दिन शिव जी का अपमान माना जाता है।
  • चंपा और केतकी के फूलों को भगवान शिव का श्राप मिला हुआ है। इसलिए प्रभु को गलती से भी चंपा और केतकी के फूल नहीं चढ़ाने चाहिए। ध्यान रखे शिवलिंग पर अभिषेक के लिए स्टील और प्लास्टिक के बर्तनों के प्रयोग से बचे। आप इस दौरान कांसे, सोना और चांदी के बर्तन प्रयोग कर सकते है।
  • शिव पूजा में टूटे हुए चावल (अक्षत) के टुकड़े नहीं चढ़ाने चाहिए क्योंकि इन्हें पूर्णता का प्रतीक माना गया है। प्रभु महादेव की पूजा में वैसे तो कई तरह के फल चढ़ाये जाते है लेकिन शिवरात्रि पर आप ‘बेर’ चढ़ाना ना भूले। आपकी जानकारी के लिए बता दे बेर को चिरकाल का प्रतीक माना गया है।
  • शिव पूजा करने के बाद शिवलिंग पर चढ़ा प्रसाद ग्रहण करने से बचे। ऐसा करना दुर्भाग्य का प्रतीक माना गया है। इसके अलावा ध्यान रखे शिवरात्रि के दिन गलती से भी चावल और गेंहू जैसे अनाजों का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन फल, दूध, चाय, कॉफी आदि का सेवन ही शुभ माना गया है।
  • शिवलिंग पर तुलसी और पाश्चुरीकृत या पैकेट दूध चढ़ाना गलत माना गया है। हमेशा ध्यान रखे शिवलिंग पर ठंडा दूध चढ़ाना चाहिए। शिवरात्रि के दिन रात के समय में सोने की जगह भक्तों को ‘रात्रि जागरण’ करना चाहिए। जागरण के दौरान भोले-भंडारी के भजन और आरती गायन से शुभ आशीष मिलता है।
The Fasting Rules of Mahashivaratri | Rituals 1 1 The Fasting Rules of Mahashivaratri | Rituals 2 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

12 Jyotirlingas in India: इन स्थानों पर भगवान शिव साक्षात् वास करते हैं

महादेव के 12 ज्योतिर्लिंग के पीछे छिपी है कई रोचक […]
12 Jyotirlingas in India

Subscribe US Now